ये 5 बड़े बॉलीवुड हीरो आये थे राजनीत में जगह बनाने, लेकिन हो गए फ्लॉप

पॉलिटिक्स एक ऐसा दलदल है जिसमें कोई इंसान घुस जाता है तो वो उस दलदल में ही घुसे रह जाता है। इसलिए हमारे देश में पॉलिटिक्स को बहुत बेकार माना जाता है। क्योंकि यहां पर भ्रष्टाचार है जिसकी वजह से भारत के युवा पॉलिटिक्स में नहीं जाना चाहता है। हमारे देश में आपको कुछ भी बनने के लिए डिग्री की या फिर किसी कोर्स के ऊपर महारत हासिल करनी पड़ती है। लेकिन पॉलिटिक्स में जाने के लिए आपको किसी भी चीज की जरुरत नहीं होती है।

यहां किसी भी फील्ड का या फिर अनपढ़ आदमी नेता बन सकता है। यहां अनपढ़ नेता काफी पढ़ाई करने के बाद आईएस अफसर पर हुक्कम चलता है। हमारे देशा का सविंधान ही कुछ ऐसा है कि जिसके बारें में कुछ बेहतर कहा नहीं जा सकता है।

वहीं अगर हम पॉलिटिक्स में बॉलीवुड अभिनेता और अभिनेत्रियों की बात करें तो पॉलिटिक्स में आज काफी ऐसे अभिनेता रहें है जिन्होंने झंडे गाड़ दिए लेकिन कुछ बॉलीवुड स्टार्स ऐसे भी रहे है जिन्होंने पॉलिटिक्स में कदम रखा तो था अपना पैर जमाने के लिए लेकिन ये स्टार्स पॉलिटिक्स में उलटे पांव गिर गए। आज हम आपको ऐसे ही स्टार्स के बारें में बताने जा रहे है जो पॉलिटिक्स में आकर फेल हो गए।

अमिताभ बच्चन

बॉलीवुड में आज मेगास्टार अमिताभ बच्चन का नाम बड़े ही अदब से लिया जाता है। लेकिन पॉलिटिक्स में इस अभिनेता ने भी अपना हाथ आजमाया था। आपको बता दें कि अमिताभ बच्चन ने इलाबाद से लोकसभा का चुनाव लड़ा और भारी वोटो से वंहा से विजयी हुए। लेकिन वे पॉलिटिक्स में लंम्बी पारी नहीं खेल पाए थे। तीन साल बाद उन्होंने अपने स्टारडम को बनाए रखने के लिए अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

धर्मेंद्र

बॉलीवुड के ‘ही-मैन’ कहे जाने वाले धर्मेंद्र ने साल 2004 में बीकानेर से बीजेपी सांसद बने थे। लेकिन संसद में गैरहाजिर रहते की वजह से उनको काफी आलोचना का सामना करना पड़ा था। इससे परेशान होकर धर्मेंद्र ने पॉलिटिक्स को बाय बाय कर दिया।

राजेश खन्ना

बॉलीवुड में राजेश खन्ना का अपने समय में अलग ही स्वैग हुआ करता था। राजेश खन्ना बॉलीवुड के पहले अभिनेता थे जिनकी एक के बाद एक 15 सुपरहिट फिल्में दी थी। उनके मरने के इतने साल बाद भी उनका स्टारडम लोगों की जुबान पर हैं।

वहीं ये सुपरस्टार जब पॉलिटिक्स में उतरा तो ये भी ज्यादा देर तक टिक नहीं पाया। आपको बता दें कि राजेश खन्ना लोकसभा का चुनाव जीतकर 4 साल तक दिल्ली के सांसद रहे थे।

गोविंदा

बॉलीवुड में चीची के नाम से मशहूर गोविंदा का फिल्मों में एक अलग ही क्रेज रहा था। गोविंद ने 90 के दशक के बेहतरीन अभिनेता रहे थे। लेकिन साल 2004 में गोविंदा विरार संसदीय इलाके से बीजेपी के सांसद चुने गए थे। लेकिन काफी आलोचना के बाद उन्होंने 2008 में राजनीति से संन्यास ले लिया था।

संजय दत्त


संजय दत्त का एक समय में अलग ही स्वैग रहा था संजय के पित भी कांग्रेस के बड़े नेता रहे थे। वहीं संजय भी चुनाव लड़ने के लिए पॉलिटिक्स में कूदे थे। संजय साल 2009 में लोकसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी से टिकट लेकर नामांकन भरा था लेकिन कोर्ट ने उन्हें इसकी आवेदन नहीं दिया था जिसकी वजह से वे चुनाव नहीं लड़ सकें थे।

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

preity indian

यह खबर वायरल इन इंडिया के वरिष्ट पत्रकार के द्वारा लिखी गयी है| खबर में कोई त्रुटी होने पर हमें मेल के द्वारा संपर्क करें- [email protected]आप हमें इस फॉर्म से भी संपर्क कर सकते हैं, 2 घंटे में रिप्लाई दिया जायेगा |

Close