शेयर करें

इस समय देश  में तीन तलाक का मुद्दा बहुत जोर शोर से चर्चा में है और हर जगह बस इसी कि चर्चा है | किसी गाँव कूंचे के नुक्कड़ की बेंच पर बैठे आदमी के कप से उठते भाप से लेकर संसद की चर्चाओं तक बस तीन तलाक और तीन तलाक ही है |

इसे जहाँ भाजपा सरकार द्वारा एक ऐतिहासिक फैसला करार दिया जा रहा है वहीँ पूरा विपक्ष इसका एक स्वर  में विरोध दर्ज कराते हुए दिख रहा है | आपको बता दें कि मुस्लिम महिलाओं के लिये भाजपा सरकार की ओर से एक बिल लाया जा रहा है जिसमे त्वरित रूप से तीन तलाक को खत्म करने की मांग की है |

ओवैसी ने किया खुलकर विरोध

इसका विरोध करते हुए ओवैसी ने तो यहाँ तक कह दिया है कि ये फैसला सिर्फ मुस्लिम महिलाओं के लिये क्यों बल्कि उन हिन्दू महिलाओं के लिये भी लाया जाये जिनके पतियों ने उन्हें छोड़ दिया है | मोदी पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि गुजरात में हमारी एक भाभी हैं उन्हें भी न्याय दो जिनके पति ने उन्हें बिना तलाक के छोड़ रखा है |

कांग्रेस सांसद सुष्मिता आयी इसके विरोध में

जैसा कि इस कानून का विरोध जोरों पर है क्योकि इसे मजहबी मामलों में दखल बताया जा रहा है तो इसी फेहरिस्त में असम के सिलचर से कांग्रेस की सांसद सुष्मिता देव ने अपना विरोध इस कानून के खिलाफ दर्ज कराया है और कहा है कि इस ट्रिपल तलाक मामले के कानून में महिलाओं की सुरक्षा के लिये जरूरी प्रावधान हैं ही नहीं |

उनका कहना है कि इस कानून की वजह से तलाक एक क्रिमनल ऑफेंस बन जायेगा और तलाक देने वाले व्यक्ति को तत्काल प्रभाव से जेल भेज दिया जायेगा जो गलत है | इस मामले में अभी जो महिलाओं को गुजारा भत्ता मिलता है उस पर खतरे की तलवार लटकती नजर आ रही है |

संसद में दिये सुष्मिता ने ये सुझाव

इस मामले में अपना विरोध दर्ज कराने के साथ साथ सुष्मिता ने इसको लेकर कुछ अच्छा करने के लिये अपनी तरफ से सुझाव देते हुए कहा कि अगर केंद्र सरकार मुस्लिम महिलाओं के लिये वास्तव में कुछ करना चाहती है तो उसको ये करना चाहिए कि जो मुस्लिम महिलाएं ट्रिपल तलाक का शिकार होती हैं उनके लिये एक कॉर्पस फंड तैयार किया जाये|

इस कानून से तलाक देने वाला पुरुष तुरंत जेल चला जायेगा और उसके जेल जाने के बाद महिला और उसके परिवार का गुजारा भत्ता कौन देगा ?

देखिये वीडियो:-

Source-http://exposekhabar.com/triple-talaq-par-boli-sansad-sushmita-dev/

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें