मोदी पर लगा 11 हजार करोड़ के घोटाले का बड़ा आरोप, खुलासा होते ही बीजेपी छुपा रही है अपना मुंह - वायरल इन इंडिया - Viral in India - NEWS, POLITICS, NARENDRA MODI

मोदी पर लगा 11 हजार करोड़ के घोटाले का बड़ा आरोप, खुलासा होते ही बीजेपी छुपा रही है अपना मुंह

केंद्र में यूँ तो बीजेपी की सरकार को करीब 4 साल का वक्त हो चला है और तब से लेकर अब तक बीजेपी का हर बड़ा नेता देश से भ्रष्टाचार को खत्म करने की बड़ी-बड़ी बाते कर रहा है. बीजेपी के दिग्गज चाहे फिर वो प्रधानमंत्री मोदी हो या पार्टी अध्यक्ष अमित शाह कोई भी इस मुद्दे पर विपक्ष पर निशाना साधने का कोई मौका नहीं छोड़ते दिखते हैं. ऐसे में जो प्रधानमंत्री “न खाऊंगा, न खाने दूंगा” जैसा फिल्मी डायलॉग मारकर सत्ता में आए थे वो ही अब अपने नेताओं के घोटालों पर मोन है.

source

अपने नेताओं का भ्रष्टाचार देखकर भी अनदेखा कर रहे है प्रधानमंत्री मोदी

जी हाँ अगर बिहार की राजनीति पर नजर डाले तो वहां नीतीश कुमार कल भी मुख्यमंत्री थे और आज भी बिहार के मुख्यमंत्री हैं, लेकिन जो एक चीज बदली वो है उनके बगल वाली कुर्सी और उसपर बैठने वाला महानायक. ये बात बिहार की जनता भी भलीभांति समझती है कि मुख्यमंत्री की कुर्सी पर भले ही नीतीश कुमार बैठे है लेकिन उनके बगल वाली कुर्सी के बदलते किरदार बिहार की सरकार का बदलता रंग दर्शाते हैं.

source

जो लोग कल तक तेजस्वी यादव को घोटालेबाज कहते थे वहीं आज जनता को दे रहे हैं धोखा

पहले उस कुर्सी पर तेजस्वी यादव का सिक्का बोलता था, जिनपर जब बीजेपी ने भ्रष्टाचार के आरोप लगाना शुरू किया तो नीतीश ने कोर्ट का फ़ैसला आने से पहले ही उन्हें दोषी मानते हुए उनकी पार्टी के साथ महागठबंधन तोड़कर इस्तीफा दे दिया था. जिसके बाद इसी मौके की तलाश में बैठी बीजेपी ने नीतीश कुमार की ओर समर्थन का हाथ बढ़ाते हुए फिर एक बार उनकी सरकार बनाई और उनकी बगल की कुर्सी भगवा रंग में बदलते हुए उसपर सुशील कुमार मोदी को बैठा दिया.

अगर याद हो तो ये वहीं नीतीश कुमार है जिन्होंने बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और उनके परिवार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद नैतिकता की ढींगे हाकते हुए इस्तीफा दिया था.

source

सुशील मोदी ने सत्ता में आने से पहले लालू परिवार पर लगाए थे कई गंभीर आरोप

दरअसल, बीते साल तत्कालीन बिहार बीजेपी अध्यक्ष सुशील मोदी ने लालू परिवार पर आरोप लगते हुए खुलासा किया था कि पटना में जिस जगह लालू परिवार के मॉल का निर्माण हो रहा है, वो जमीन पार्टी नेता प्रेमचंद गुप्ता ने लालू के बेटों के नाम की है. मॉल के निर्माण से पहले इसका मालिकाना हक़ प्रेम गुप्ता की कंपनी के पास था जो बाद में लालू यादव की पत्नी राबड़ी देवी और उनके बेटों तेजप्रताप यादव और तेजस्वी यादव के नाम कर दिया गया. बीजेपी ने उस वक्त मौके का फ़ायदा उठाते हुए न केवल अपनी राजनितिक रोटियाँ सेकी बल्कि लालू प्रसाद, उनकी पत्नी राबड़ी देवी, बेटे तेजस्वी और तेज प्रताप यादव, बेटी मीसा और उनके पति शैलेश पर लगभग 1000 करोड़ की बेनामी संपत्ति के आरोप लगते हुए उन्हें जमकर घेरा.

source

सुशील कुमार मोदी पर लगा 11 हजार करोड़ के घोटाले का आरोप 

लेकिन अब उपमुख्यमंत्री की उसी कुर्सी पर बैठने के बाद वर्तमान के होनहार उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर भी काफी बड़े भ्रष्टाचार के आरोप लग चुके हैं. जानकारी के लिए बता दें कि साल 2010 में जब नीतीश कुमार एनडीए की तरफ से बिहार के मुख्यमंत्री थे तो उस समय तत्कालीन उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी पर अपने पद का गलत इस्तेमाल करते हुए धोखाधड़ी से निकासी और भ्रष्टाचार के अनियमितताओं को लेकर लगभग 11,412 करोड़ रुपए गबन करने का गंभीर आरोप लगा था. इस आरोप में नैतिकता की बाते करने वाले मुख्यमंत्री समेत अन्य 47 लोगों के नाम भी सामने आए थे.

वाकई अब ऐसा लगता है मोदी जी को अपना नारा “न खाऊंगा, न खाने दूंगा” को बदलकर “सिर्फ मेरे लोग ही खाएंगे” रखने की जरुरत है.

Leesha Senior Reporter

यह खबर वायरल इन इंडिया के वरिष्ट पत्रकार के द्वारा लिखी गयी है| खबर में कोई त्रुटी होने पर हमें मेल के द्वारा संपर्क करें- [email protected] आप हमें इस फॉर्म से भी संपर्क कर सकते हैं, 2 घंटे में रिप्लाई दिया जायेगा |
Close