राहुल गाँधी के धर्म को लेकर सवाल उठाने वाली स्मृति ईरानी का धर्म आखिर क्या है? - वायरल इन इंडिया - Viral in India - NEWS, POLITICS, NARENDRA MODI

राहुल गाँधी के धर्म को लेकर सवाल उठाने वाली स्मृति ईरानी का धर्म आखिर क्या है?

इस देश में अजीब ही तरीके से गैर जरुरी मुद्दों को जरुरी मुद्दों का बनाकर ट्रीट किया जा रहा है और पूरा देश इस गैर-जरूरी मुद्दे पर बड़ी तन्मयता से बात और बहस करने में लगा हुआ है | इससे हुआ ये है कि जो भी मूलभूत जरूरी मुद्दे हैं उनको कोई ध्यान देने योग्य ही नहीं समझ रहा और देश गर्त में जा रहा है | दरअसल ये एक प्लानिंग के साथ होता है जिससे सरकार के गलत कामों को छुपाया जा सके और बड़ा अफ़सोस है कि वो इस काम में सफल भी होते दिख रहे हैं |

राहुल गाँधी के धर्म पर उठ रहे हैं सवाल

अभी देश में इन दिनों जनेऊ पहनने के बाद राहुल गाँधी के धर्म को लेकर देश में काफी चर्चाएँ होने लगी हैं जो नाहक ही मुद्दे हैं | किसी का जनेऊ पहनना या फिर टोपी लगाना उसकी खुद की अपनी पसंद और संवैधानिक स्वतंत्रता है जिसको लेकर कोई कैसे सवाल खड़े कर सकता है ? लेकिन नहीं इस देश में आम लोगों से लेकर बड़े बड़े सत्ताधीश तक इस मुद्दे पर आगे आकर बात कर रहे हैं जो बड़ा ही अफसोसजनक है |

स्मृति ईरानी खुद हिन्दू नहीं है और राहुल पर सवाल कर रही

भाजपा की जानी मानी वरिष्ठ नेता स्मृति ईरानी भी इस मामले में सामने आकर राहुल गाँधी के धर्म के बारे में प्रश्न उठाने लगीं और उनका कहना है कि वो हिन्दू कैसे हो गये? स्मृति जैसे नेताओं को ऐसी ओछी बातें सोभा नहीं देती लेकिन जिस दल में ये हैं वो इसी तरह का एक दलदल है जहाँ यही सब बातें होती आई हैं तो फिर ऐसे में जवाब देना भी जरूरी है कि स्मृति राहुल के हिन्दू होने पर कैसे प्रश्न कर सकती हैं जबकि वो खुद ही हिन्दू नहीं है |

Smriti Irani exposed for having fake BA degree

जी हाँ स्मृति ईरानी हिन्दू नहीं है ये बात सुनकर शायद आप भी हैरान हों लेकिन सच यही है | चूँकि भारत पितृसत्तात्मक देश है तो ऐसे में यहाँ पर बच्चों और बीबी का धर्म उनके पति के अनुसार तय होता है | स्मृति के पति के नाम जुबीन ईरानी है और वो पारसी धर्म से ताल्लुक रखते हैं तो  ऐसे में स्मृति का खुद का धर्म पारसी हुआ |

नफरत की राजनीती से भाजपा को बाज आना चाहिए

स्मृति इस बात को नकार भी नहीं सकती हैं क्योकि वो राहुल के धर्म को लेकर उनके उनके पूर्वजों तक के धर्म को गिना रही हैं |तो ऐसी में स्मृति से यही कहना है कि जब अपना खुद का गिरेबां चाक हो तो दुसरे के गिरेबान की तरफ नहीं हाथ बढाते है वरना खुद की फजीहत हो जाती है | देश को जरूरी मुद्दों से ऐसी बातें करके भटकाओ मत बल्कि जरूरी काम करिये और ये नफरत और मजहब वाली राजनीती बंद कर दीजिये वरना जनता ने तो चुनावों में जवाब देना शुरू कर ही दिया है |

Source-http://headline24hindi.com/indira-husband-was-parsi-and-smriti-husband-is-parsi/

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

Close