शेयर करें

अगले साल देश में लोकसभा चुनाव होने वाले हैं जिस की तैयारियां सभी राजनीतिक दलों ने अभी से शुरु कर दी हैं।

इस कड़ी में इस साल के नए चेहरे सामने आए हैं हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों और उपचुनावों में बीजेपी काफी कमज़ोर होती नज़र आ रही है, जिसका नतीजा आपने गुजरात विधानसभा चुनाव और कर्नाटक विधानसभा चुनाव में देख ही लिया है।

देश में जिग्नेश मेवानी, हार्दिक पटेल और राहुल गाँधी जैसे युवा चेहरे सामने आने के बाद देश की राजनीति का रूप पूरी तरह से बदला नजर आएगा और इसका असर लोकसभा चुनाव के इन नतीजों का असर साफ झलकेगा।

शिवराज सिंह के गढ़ में बीजेपी के लिए बुरी खबर

इस साल बीजेपी शासित मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं, जिसके चलते खबर सामने आई है की मध्यप्रदेश के शहडोल जिले में भारतीय जनता पार्टी से जिला पंचायत अध्यक्ष निर्वाचित नरेंद्र मरावी कांग्रेस में शामिल हो गए हैं।

शहडोल लोकसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी रहे मराबी सरकार से नाराज चल रहे थे और दो दिन पहले ही उन्होंने कांग्रेस में जाने का ऐलान किया था।

खबरों की मानें तो पिछले कुछ समय से ही मरावी अपनी ही पार्टी से नाराज चल रहे थे। मारवी पहले भी बीजेपी के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर चुके थे और आखिरकार उन्होंने ये फैसला के लिया की वह बीजेपी को छोड़ रहे हैं।

भाजपा नेता नरेंद्र मरावी कांग्रेस में शामिल

इससे पहले भी कांग्रेस ने दावा किया है कि उन्होंने मुख्यमंत्री बीजेपी के पांच सौ कार्यकर्ताओं को अपने खेमे में शामिल किया है। ढोल धमाकों से पीसीसी पहुंचे बीजेपी की कार्यकर्ताओं में महिलाएं और कई स्थानीय नेता भी शामिल थे।

प्रदेश में ऐसा पहला मौका है, जब कई बीजेपी के कार्यकर्ता कांग्रेस में शामिल हुए। यह भी बताया जा रहा है कि आगे भी बीजेपी के कई नेता और कार्यकर्ता दूसरे जिलों से भी कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं।

राहुल गाँधी की अगुवाई में कांग्रेस हो रही है मज़बूत

आपको बता दें की जब से राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष बने हैं, कांग्रेस लगातार मजबूत होती जा रही है। जिसका उदारहण हमें गुजरात और कर्णाटक के साथ बीजेपी शासित राजस्थान में भी देखने को मिला है।

इन राज्यों में अब बीजेपी का जनाधार कमज़ोर होता जा रहा है। वहीँ कांग्रेस राज्यों में अपना परचम बुलंद करने में कामयाबी हासिल कर रही है।

माना जा रहा है की अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस बाजी मार सकती है और इस लोकसभा चुनाव में राहुल गाँधी कांग्रेस के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार बन सकते हैं।

निष्कर्ष:

 

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले कई बीजेपी नेता, पार्टी का साथ छोड़ रहे हैं और कांग्रेस के साथ जुड़कर अपने राजनीतिक करियर को बचाना चाहते हैं। अगर ये सिलसिला यूं ही जारी रहा तो बीजेपी को काफी नुक्सान हो सकता है।

Story Source: http://viralinindia.net/politics-in-india/bjp-cong/50066/

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें