मुलायम सिंह के रुतबे के आगे योगी सरकार को लेना पड़ा अपना ये बड़ा फ़ैसला वापस !

शेयर करें

जैसा सभी जानते है कि उत्तर प्रदेश में सत्ता परिवर्तन का असर चरम पर है. ये देखा जा रहा है कि पूर्व समाजवादी सरकार द्वारा लिए गये कई अहम फैसलों और योजनाओं को भाजपा की योगी सरकार ने या तो बंद कर दिया है या फिर उनका नाम बदला जा चूका है.

सत्ता जाने के बाद भी सूबे में बरकारर है मुलायम सिंह का रुतबा

इन्ही राजनीतिक बदलावों में मुलायम सिंह परिवार को भी शिकार बनाया जा रहा था. जिसके चलते ही बदलाव का ये सिलसिला सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के रिश्तेदारों पर भी शुरू कर सत्ता में बैठी योगी सरकार अभी खुश ही हो रही थी कि तभी जब खुद मुलायम सिंह सामने आए तो मानो योगी सरकार को भी अपना फैसला बदलना पड़ा.

पॉवर के बाद भी योगी सरकार नहीं कर पाई मुलायम की समधन का ट्रांसफर

बता दें कि, सत्ता में आने के बाद जब मुलायम सिंह यादव की समधन और एलडीए की उप सचिव अम्बी बिष्ट के तबादले का आदेश योगी सरकार ने दिया था तो ये मुद्दा खूब चर्चाओं में रहा था. लेकिन अब तबादले का आदेश देने के कुछ दिन बाद ही जब उस आदेश मे संशोधन किया गया तो मानो एक बार फिर ये बात साबित हुई कि सत्ता न होते हुए भी मुलायम सिंह यादव योगी सरकार के फ़ैसले बदलने का दम रखते है.

पहले फर्रुखाबाद किया गया था तबादला

जी हाँ मुलायम की समधन अम्बी बिष्ट जो जहाँ पहले योगी सरकार द्वारा फर्रुखाबाद के स्थानीय निकाय में नियुक्ति दी गई थी वो बदलकर अब लखनऊ कर दी गई है. वो अब फर्रुखाबाद नहीं बल्कि लखनऊ के नगर निगम में कर निर्धारण अधिकारी के पद पर तैनात होंगी.

मुलायम की छोटी बहू अर्पणा यादव की मां है अम्बी बिष्ट

जानकारी दे दें कि राजस्व प्रवर में सेवा अधिकारी अम्बी बिष्ट, मुलायम की छोटी बहू अर्पणा यादव की मां और सूचना आयुक्त अरविंद सिंह बिष्ट की पत्नी हैं. बताया जा रहा है कि मुलायम की समधन अम्बी बिष्ट के तबादले से संबंधित संशोधित तबादला नगर विकास के प्रमुख सचिव मनोज कुमार सिंह द्वारा जारी किया गया है.

कई और भी हुए हैं बदलाव

गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी की सरकार जाने के बाद से ही यूपी में भाजपा सरकार के आते ही बदलाव का दौर शुरू हो गया था. सत्ता में आने के बाद सीएम योगी ने पिछली सरकार के कई अहम फ़ैसलों को या तो रोक दिया या उन्हें पलट कर दिया.

निष्कर्ष

इन्ही बदलावों के चलते यूपी की मासूम जनता भी बेहाल है. बता दें कि अखिलेश सरकार में कराई गयी हजारों भर्तियों की जांच योगी सरकार ने सत्ता में आते ही बैठा दी जिससे लाखों युवाओं का भविष्य अभी भी अंधकारमय में पड़ा हुआ है.

जब हालांकि इस मुद्दे के सुर्ख़ियों में आने के बाद सीएम योगी ने अपनी सरकार में लाखों युवाओं को रोजगार देने का आश्वासन तो दिया लेकिन सोचने वाली बात अभी भी वहीं है कि जिन लोगों ने परीक्षा पास कर नौकरी करना शुरू कर दिया था, उनके भविष्य को योगी सरकार ने केवल राजनीति के लिए क्यों अंधकार में डाला…!

Story Source: https://www.patrika.com/lucknow-news/aparna-yadav-mother-ambi-bisht-transfer-order-change-news-in-hindi-2327803/


शेयर करें