अम्बेडकर जी के बाद गुस्साई भीड़ ने चटका दी चाय बेंचने वाले मोदी की मूर्ती, जानिये पूरा मामला

शेयर करें

देशभर में इन दिनों मूर्तियों को राजनीतिक बदले का हथियार बनाकर उन्हें खंडित करने का खेल खेला जा रहा है.

मूर्ति तोड़ने की राजनीति अब देश के अलग-अलग हिस्सों में भी फैलती जा रही है

जैसा सभी जानते हैं कि हाल ही में विधानसभा चुनाव के परिणामों के बाद त्रिपुरा से शुरू हुई मूर्ति तोड़ने की राजनीति अब देश के बाक़ी हिस्सों में भी तेजी से फैलती नज़र आ रही है.

जिसमें जहाँ बीते बुधवार को कोलकाता में श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति को तोड़ कर उसके मुंह पर कालिख पोतने का शर्मनाक काम किया गया तो अब पीएम मोदी की मूर्ति भी इससे अछूती नहीं रह पाई है.

त्रिपुरा के बेलोनिया से शुरू हुए इस खेल ने लिया बेहद गन्दा रूप

मूर्ति तोड़ने की आग की चिंगारी त्रिपुरा के बेलोनिया इलाके में लेनिन की मूर्ति को ढहाने के साथ शुरू हुई जिसकी तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गईं थी. इसके बाद तो मानो देश में मूर्तियों को तोड़ने या उनके मुंह पर कालिक पोथने की एक परंपरा सी ही शुरू हो चली.

पीएम मोदी की मूर्ति भी नहीं रही अछूती

इसी कड़ी में त्रिपुरा के बाद तमिलनाडु के वेल्लूर ज़िले में पेरियार की मूर्ति को नुक़सान पहुंचाया गया. इतना ही नहीं कोलकाता में श्यामा प्रसाद मुखर्जी की एक मूर्ति पर काली स्याही पोत दी गई. लेकिन अब जब पीएम मोदी की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाया गया तो इस मुद्दे पर बीजेपी और केंद्र सरकार कही जाकर नींद से जगती नज़र आ रही है.

महात्मा गांधी की प्रतिमा के बाद प्रधानमंत्री मोदी की प्रतिमा पर साधा गया लक्ष्य

जी हाँ देश के विभिन्न हिस्सों में जैसे त्रिपुरा में लेनिन, तमिलनाडु में पेरियार, कोलकाता में श्यामा प्रसाद मुखर्जी, केरल में महात्मा गांधी और यूपी में अंबेडकर की मूर्ति को हानि पहुंचाने के बाद अब भगवानपुर बहुंगरा गांव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक अनोखी प्रतिमा को भी नुकसान पहुंचाया गया है.

शिव मंदिर में स्थापित मोदी की प्रतिमा को किया गया क्षतिग्रस्त 

दरअसल, पीएम मोदी की मूर्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले में बीते शुक्रवार की शाम भाजपा नेता ने पुलिस को एक तहरीर दी थी जिसके बाद पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ इस मामले में केस दर्ज कर लिया. खबर है कि भगवानपुर बहुंगरा निवासी भाजपा नेता बृजेंद्र नारायण मिश्रा ने लगभग चार साल पहले अपने आवासीय परिसर में एक शिव मंदिर का निर्माण किया था.

कुछ अराजक तत्वों ने तोड़ी मूर्ति

जिसमें लोकसभा चुनाव जीतने के बाद वर्ष 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रतिमा स्थापित की थी. लेकिन उनके अनुसार बीते गुरुवार को कुछ अराजक तत्वों ने पीएम मोदी की उस अनोखी प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया है.

हमले में पीएम मोदी की टूटी नाक

इस मामले पर ज्यादा जानकारी देते हुए इंस्पेक्टर उमाशंकर यादव ने बताया कि..

“प्रतिमा पीओपी की है. अराजक तत्वों के हानि पहुंचाने से मूर्ति की नाक क्षतिग्रस्त हुई है. तहरीर के आधार पर अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर मामले की छानबीन की जा रही है.”

इसके पहले भगवान हनुमान की मूर्ति पर भी किया गया था हमला

बताते चले कि देश भर में मूर्तियों को तोड़ने का सिलसिला बीते महीने से जारी है. इसी सिलसिले के चलते बीते दिनों खरूआव ग्राम में कुछ शरारती तत्वों ने भगवान हनुमान की प्रतिमा को भी अपना शिकार बनाते हुए उसे तोड़ दिया था. भगवान हनुमान की खंडित प्रतिमा पर एक पोस्टर भी चिपका मिला था, जिसके बाद से ही इलाके में तनाव जारी है.

निष्कर्ष

ऐसे में सोचने वाली बात ये है कि पिछले कुछ दिनों में देश के अलग-अलग हिस्सों में हो रही इन घटनाओं के पीछे आखिर कौन-सी मानसिकता काम कर रही है और राजनीति का इसमें कितना बड़ा हाथ है, जो जांच के बाद ही सामने आ सकेगा.


शेयर करें