शेयर करें

हमारे बड़े-बुजुर्ग हमेशा से ये बात कहते आए हैं कि राजनीति ने कोई किसी का नही होता. इसी कहावत को सच साबित करता एक मामला हाल ही में सामने आया है.

जैसा सब जानते हैं कि सत्ता में आने से पहले प्रधानमंत्री मोदी देश हित के मुद्दों को लेकर बड़ी-बड़ी बाते करते थे लेकिन सत्ता में आने के बाद उनके सभी वायदे जिस तरह जुमले साबित हुए उसे देख हर कोई हैरान है.

प्रधानमंत्री मोदी से हो चला हैं सबका मोह भंग

शायद इसी के चलते जहाँ अभी तक देश की जनता का प्रधानमंत्री मोदी को लेकर मोह भंग हो चला था तो वहीं अब बीजेपी के कई नेता और उसके सहयोगी दलों का भी बीजेपी और मोदी से विश्वास उठता दिखाई दे रहा है.

जी हाँ इसी का उदाहरण देते हुए हाल ही में बिहार की नीतीश सरकार में मंत्री अब्दुल जलील मस्तान ने नोटबंदी का विरोध करते हुए मोदी की तस्वीर पर जूते मरवा दिए.

जिसके बाद अब सियासत गरमा गई तो बीजेपी की ओर से मंत्री के इस्तीफे की मांग उठने लगी.

खबर हैं कि नोटबंदी का विरोध जताने और मंत्री साहब की अपील के बाद बिहार के पूर्णिया में प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर पर जूते-चप्पल चले, जिसके बाद इसके पीछे की जो कहानी सामने आई वो बेहद बीजेपी परेशान करने वाली है.

बिहार के मंत्री के कहने पर लोगों ने मारे मोदी की तस्वीर पर जूते

 

आपको सुनकर हैरानी होगी कि पीएम मोदी की तस्वीर पर जूते मारने के लिए नीतीश सरकार के मंत्री अब्दुल जलील मस्तान के ही लोगों को उकसाने की बात सामने आई है.

इतना ही नही नीतीश के मंत्री ने मोदी की तस्वीर पर सिर्फ जूते ही नहीं मारे बल्कि नारेबाजी में पीएम के लिए अपशब्दों भी कहे.

जूते मरवाने के बाद भी जब मंत्री जी का मन नहीं भरा इसके बाद उन्होंने पीएम को नक्सली तक कह दिया.

बता दें कि अब्दुल जलील मस्तान ने कहा कि,

“वो पीएम नहीं है, वो नक्सलाइट है, उग्रवाद है, डकैत है और लोगों को तरह-तरह से सताने वाला है.”

देखिये वीडियो:-

बीजेपी मांग रही हैं मंत्री से इस्तीफ़ा

जब मंत्री साहब की ये हरकत कैमरे में कैद हो गई और सवाल उठने लगे कि सहयोगी दल होने के नाते मंत्री जी ने ऐसा क्यों किया तब वो बड़ी सफाई से मुकर गए.

ऐसे में अब बीजेपी लगातार मंत्री को बर्खास्त करने की मांग कर रही है.

निष्कर्ष

गौरतलब हैं कि अगले साल देश में लोकसभा चुनाव हैं जिस बीच एक मंत्री का ये जूता कांड सामने आने पर बीजेपी में खलबली मच गई है. इससे ये भी साफ़ होता हैं कि आने वाले दिनों में बिहार की राजनीति इसी पर गर्म रहेगी.

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें