रेल मंत्रालय कितना लापरवाह है उसका सबूत देखो, इतना बड़ा रेल हादसा आराम से टल सकता था

भारत सरकार मोदी के सानिध्य में देश को एक दुर्दशा वाले काल की ओर तेजी से लेकर जा रही है ! ये लोग चुनाव के पहले ऐसे ऐसे वाडे और प्रलोभन देश को दे दिए कि देश को लगा शायद कुछ हो जाए और देश इनके जुमलों में बस ठगा का ठगा रह गया ! आज देश इस पर शर्मिंदा है कि हमने “बंदरों के हाथ उस्तरा” दे दिया है !

देश ऐसे जा रहा गर्त की ओर

यहाँ आये दिन ऐसे ऐसे हादसे देखने को मिल रहे हैं कि देश के लोगों का दिल बैठ सा जाता है ! फिर वो चाहे सरकार की लापरवाही से गोरखपुर के जिला अस्पताल में मासूम लोगों की मौत हो और इतने के बाद फिर उसी अस्पताल में दुबारा यही होना हो या फिर देश में लगातार इतने बड़े पैमाने पर होते रेल हादसे हों !

रेल हादसा टाला जा सकता था पर सरकार ने नहीं किया ऐसा

जी हाँ आपको आश्चर्य होगा ये सुनकर पर ये सच है कि जिस पटरी पर रेल हादसा हुआ उस पटरी पर रेल हादसा होने और पटरी ख़राब होने की सूचना लोगों ने सरकार तक पहुंचा दी थी और ये जानकारी रेल विभाग को अच्छे से थी ! लेकिन शायद इन लोगों के लिए गाय को छोड़कर किसी की जान कीमती नहीं !

इस हादसे के 5 दिन पहले ही रेल विभाग को जानकारी थी कि यहाँ पर पटरी ख़राब है और जाहिर सी बात है कि जब पटरी ख़राब है तो कोई भी बड़ा हादसा होना लाजिम है लेकिन सरकार ने इस तरफ ध्यान देने का सोचा ही नहीं और देश को इतने बड़े पैमाने पर जान-माल की हानि उठानी पड़ी !

सरकार ने इस तरफ कदम उठाते हुए इतना किया कि सुरेश प्रभू को रेल मंत्री से हटाकर किसी अन्य को ये पद दे दिया लेकिन साहब पद बदलने से हादसे नहीं रुका करते बल्कि आपको नीतिया बदलनी होगी और अपने काम को गंभीरता से लेना होगा वरना ऐसे ही हादसे देखने को मिलते रहेंगे और आपकी लापरवाही की सजा कितने ही घरों में मातम बनके आएगी !

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट मैं छोड़े

पोपुलर खबरें