होम BJP

अपने ही दांव में फंसी भाजपा, गोवा में आया ये बड़ा संकट

वायरल इन इंडिया संवाददाता -
शेयर करें

अगले कुछ दिनों तक भारतीय जनता पार्टी के शासित गोवा में गोमांस की कमी होने जा रही है। कर्नाटक के मांस कारोबारियों ने गौरक्षकों के डर की वजह से अपनी सप्लाई रोकने की चेतावनी दी है।

इन कारोबारियों का कहना है कि गौरक्षकों के बढ़ते हमलों के कारण मीट व्यवसाय पर बुरा असर पड़ रहा है। कारोबारियों ने कहा है कि जब तक सरकार उन्हें सुरक्षा मुहैया नहीं कराती है, तब तक वो गोवा को मीट सप्लाई नहीं करेंगे।

कर्नाटक ने लगाई रोक

वहीं दूसरी तरफ ऑल गोवा कुरैशी मीट ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष मन्ना बेपारी ने कहा कि शनिवार को इस मसले पर गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर से बात हुई। उन्होंने इस मुद्दे पर पुलिस से बातचीत करने का भरोसा दिया है।

हालांकि बेपारी ने बताया कि मुख्यमंत्री फिलहाल प्रदेश से बाहर हैं और उनके दो दिन बाद ही लौटने की संभावना है। कुछ भी बात उसके बाद ही शुरू की जा सकेगी।

उधर कर्नाटक के मांस कारोबारी इस बात पर अड़े हुए हैं कि जबतक गौरक्षकों के खिलाफ कोई कड़ा एक्शन नहीं लिया जाता है तब तक वो मीट की सप्लाई दोबारा शुरू नहीं करेंगे। बेलगावी से हर दिन लगभग 25 टन गोमांस गोवा को भेजा होता है।

क्या है मुश्किल?

गौरक्षक अभियान जैसे संगठनों का आरोप है कि कर्नाटक में चल रहे अवैध बूचड़खानों से गोवा मीट भेजा होता है। इस संगठन के नेता हनुमंत परब पहले ही कह चुके हैं कि सरकार की इजाजत के बगैर बॉर्डर पार कई बूचड़खाने चल रहे हैं। जबकि बेपारी इन आरोपों को खारिज करते हैं।

गोवा में मीट की कमी के चलते मटन और चिकन की कीमतों में काफी उछाल देखा जा रहा है। वहीं दूसरी ओर पुलिस का कहना है कि अवैध बूचड़खानों के आरोपों को देखते हुए चौकसी काफी ज्यादा बढ़ा दी गई है।

सरकार से की अपील

इतना कुछ होने के बावजूद बेपारी ने अपील की है कि मीट सप्लाई में आई कमी का हल निकालने के लिए सरकार को कुछ करना चाहिए। अगर ऐसा नहीं हुआ तो गोवा के कारोबारी पड़ोसी राज्य से मीट नहीं खरीद पाएंगे। गोवा के पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र में बीफ बैन के कारण भी मांस आपूर्ति पर खासा असर पड़ा है।

आपको बता दें कि गोवा एक पर्यतक राज्य है जहां पर विदेशों से सैलानी आते हैं और उन व्यापारियों को बीफ काफी पसंद आता है।

जिस वजह से गोवा में कभी बीफ खाना बैन नहीं किया गया है तो वहीं गोवा को बीफ की पूर्ती पहले से केरल, महाराष्ट्र और कर्नाटक की तरफ से किया जाता है।

लेकिन महाराष्ट्र में बीफ बैन हो जाने की वजह से गोवा को कर्नाटक के ऊपर पूरी तरह से निर्भर रहना पड़ रहा है।

लेकिन लगातार गोरक्षकों के हमलों की वजह से कर्नाटक के बीफ व्यापारियों ने भी अब गोवा में सप्लाई करने से मना कर दिया है। जिस वजह से कुछ दिन गोवा में बीफ की कमी होने जा रही है।

शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े