राजोली में 30 भाजपा और 150 abvp नेताओ ने थामा कांग्रेस का दामन

By:- Viral in India Team on

जहाँ एक ओर भाजपा के लोग अन्य दलों के नेताओ को खरीदकर अपने दल में मिला रहे हैं और लोग भी अपना ईमान बेचकर इस भाजपा रुपी गंगा में डुबकी लगाकर खुद को पवित्र कर रहे हैं वही दूसरी ओर भाजपा और उसके ही सम्बद्ध दल avbp के नेता गुजरात में कांग्रेस का दामन थाम रहे हैं क्योकि उन्हें ऐसा लग रहा है और ये हकीकत भी है कि भाजपा की गुजरात में स्तिथि डामाडोल है !

कब हुआ ये सब…?

अभी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह चुनाव की तैयारी के लिए गुजरात के 3 दिन के दौरे पर थे ! इन्ही 3 दिनों के दौरान भाजपा के ३० नेता और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के 150 नेताओ ने अपनी अपनी पार्टियाँ छोडकर कांग्रेस का दामन थाम लिया ! आगामी चुनाव के पहले इतना बड़ा फेरबदल भाजपा के लिए अच्छा संकेत तो बिलकुल भी नही है !

कहाँ हुआ ये सब…?

भाजपा और abvp के लोगों ने बुधवार को अमरेली के राजोली नाम के कस्वे में अपनी अपनी पार्टी छोडकर कांग्रेस ज्वाइन कर ली ! गुजरात के कांग्रेस कमेटी प्रेसिडेंट भरतसिंह सोलंकी की उपस्तिथि में बरपतोली गाँव में इन लोगों में कांग्रेस ज्वाइन करने की सारी फॉर्मल प्रक्रियाएं पूरी की !

क्या कहना है पार्टी छोड़ने वाले नेताओ का…?

abvp के पूर्व अध्यक्ष मेघराज जोशी का कहना है कि उनके लोग भाजपा ने खुद को ऐसे महसूस करते थे जैसे उन्हें दबाया जा रहा हो और भाजपा विद्यार्थीयों के मुद्दे को  लेकर ढीली नजर आती है इसलिए उन्होंने पार्टी छोड़ने का फैसला लिया ! आगे बात बढ़ाते हुए मेघराज ने कहा कि जब से भाजपा सत्ता में है तब से हमें अपना आन्दोलन नरम करना पड़ा है ! जब भी हमने किसी मुद्दे को लेकर कोई आन्दोलन किया हमें तुरंत ही उसे भाजपा नेताओ के कहने पर वापस लेना पड़ता था !

 

ऐसे  में भाजपा गुजरात के अंदर 182 सीट में से 150 जीतने का प्लान बना रही है और यहाँ 150 नेता पार्टी छोड़ रहे हैं ! भाजपा नेताओ ने इस चुनाव ने लिए ‘मिशन 150’ का नारा भी दिया है और मोदी भी अपने गृहनगर गुजरात में चुनाव तक हर महीने कम से कम 1 दौरा तो करेंगे ही क्योकि भाजपा की डोलती नैया अब ज्यादा दिन गुजरात के समंदर में चल नहीं पायेगी !

BJP got big shock; 60 leaders joined Congress

--- ये खबर वरिष्ठ पत्रकार के द्वारा लिखी गयी है वायरल इन इंडिया न्यूज़ पोर्टल के लिए

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट मैं छोड़े