शेयर करें

बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी एक वक्त पर बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी के मार्गदर्शक माने जाते थे लेकिन आज PM मोदी ने आडवाणी को अपने मार्ग से इस तरह हटाया है कि उनकी हालत आकाश से गिरे और खजूर से अटके जैसी हो गई है। पूरी उम्र आडवाणी ने प्रधानमंत्री पद पर बैठने का इंतजार किया। जब वह उनको यह उम्मीद थी कि बीजेपी उन्हें प्रधानमंत्री उम्मीदवार बना सकती है तब नरेंद्र मोदी ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया।

1. मोदी-शाह ने किया अडवाणी को पार्टी से साइडलाइन

आडवाणी ने 2014 के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के लिए भी बढ़-चढ़कर चुनाव प्रचार किया। लेकिन मोदी ने प्रधानमंत्री पद पर बैठते ही उन्हें पार्टी से साइड लाइन करना शुरु कर दिया। अब देश में अगले साल लोकसभा चुनाव होने वाले हैं। बीजेपी नेता आडवाणी गुजरात की गांधी नगर सीट से सांसद हैं। ये आडवाणी की परम्परागत सीट है, जहाँ से वह 1998 से चुनाव लड़ते आ रहे हैं।

2. छिन सकती है आडवाणी की परंपरागत सीट


अब जो खबर सामने आ रही है, वह बीजेपी नेता आडवाणी को निराश कर सकती हैं। बताया जा रहा है कि लालकृष्ण आडवाणी के बेटे जयंत आडवाणी अपने पिता की पारंपरिक सीट गांधीनगर से चुनाव लड़ना चाहते हैं इस मामले में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात भी की हैं क्योंकि इस वक्त अमित शाह गुजरात इकाई लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की लिस्ट तैयार कर रहे हैं।

3. आडवाणी के बेटे को सीट दे सकते हैं अमित शाह

गौरतलब है कि अगर बीजेपी आडवाणी को हटाकर उनके बेटे को गांधीनगर लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनाती है तो यह बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के काफी बड़ा झटका होगा। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी के कार्यकाल में आडवाणी को वैसे ही नजरअंदाज किया जा रहा है। अगर अब बीजेपी गांधीनगर सीट से उनका पत्ता काट देती है तो माना जा सकता है कि बीजेपी पार्टी से उन्हें रवाना करना चाहती है।

4. पार्टी से नाराज़ चल रहे हैं लाल कृष्ण आडवाणी


आपको बता दें कि ऐसे कई मौके सामने आये हैं जब आडवाणी ने प्रधानमंत्री मोदी की नीतियों का विरोध किया है। आडवाणी बीते काफी समय से पार्टी की किसी अहम बैठक में शामिल नहीं हुए हैं। वह आजकल अपनी बेटी प्रतिभा के साथ समय बिता रहे हैं।

निष्कर्ष:

गौरतलब है कि एक वक़्त पर पार्टी के तेज तर्रार नेताओं में शुमार आडवाणी को मोदी और शाह की जोड़ी ने अब एक मूकदर्शक बनाकर रख दिया है। लेकिन आडवाणी रानजीति के माहिर नेताओं में से एक हैं। देखना दिलचस्प होगा कि वह पासा कैसे पलटते हैं।

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें