बिल गेट्स के इस बयान पर भाजपा परेशानी में, पढ़ें पूरी ख़बर

बिल गेट्स ने की राहुल की तारीफ़

अमेठी कांग्रेस का गढ़ माना जाता है। ये लोकसभा सीट कांग्रेस परिवार की पारंपारिक सीट से कम नहीं है। अमेठी सीट इस मामले में भी महत्वपूर्ण है कि यहाँ से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी चुनाव लड़ते हैं। 2004 से राहुल गाँधी यहाँ के सांसद हैं। इस सीट के इतिहास के बारे में बताएं तो ये कांग्रेस की मज़बूत सीट मानी जाती है।

1. कांग्रेस की पारंपारिक सीट है अमेठी

साल 1980 में वरिष्ठ कांग्रेस नेता संजय गाँधी यहाँ से सांसद चुने गए थे, उनकी मृत्यु के पश्चात इस सीट पर जब दुबारा 1981 में चुनाव हुए तो राजीव गाँधी यहाँ से सांसद चुने गए। राजीव गाँधी चार बार यहाँ से सांसद चुने गए। 1999 जब चुनाव हुए तो नेहरु-गाँधी परिवार की सोनिया गाँधी ने जीत दर्ज की।

अमेठी में गाँधी परिवार ने काफी काम किया है और यहाँ पर उनका दबदबा संजय गाँधी के वक़्त से ही बना हुआ है। आज भी राहुल को टक्कर देने वाला यहाँ पर कोई नहीं है।

2. राहुल गाँधी ने साथ अमेठी आये बिल गेट्स

आपको बता दें की दुनिया के सबसे अमीर लोगों में शुमार माइक्रोसॉफ्ट के मालिक बिल गेट्स ने अमेठी में उनकी फाउंडेशन की ओर से चलाए जा रहे विकास कार्यक्रम चलाये हुए हैं,जिनकी समीक्षा के लिए वह अमेठी भी पहुंचे थे। बिल गेट्स ने उत्तर प्रदेश में शैक्षणिक कार्यक्रम के लिए 250 करोड़ रूपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की थी।

3.राहुल गांधी को बताया सेंसिटिव

राहुल गाँधी के साथ अमेठी के दौरे पर पहुंचे बिल गेट्स ने उनसे वादा किया है कि वो उनके संसदीय क्षेत्र को सूचना प्रौद्योगिकी का गढ़ यानी आईटी हब बनाएंगे। गेट्स ने इस दौरान राहुल गाँधी के साथ जहां विकास कार्यों में गहरी रुचि दिखाई। बिल गेट्स इस दौरे के दौरान लोगों के प्रति राहुल गाँधी के प्रेम भाव को देखकर उनकी जमकर तारीफ़ की।

दरअसल बिल गेट्स अमेठी में किए गए कांग्रेस और सांसद राहुल गांधी के कार्यों से काफी प्रभावित थे। बिल गेट्स ने उनके लिए कहा की राहुल इमोशनल होने के साथ ही सेंसेटिव भी हैं।

4. लोगों की मदद करने में आगे रहते हैं राहुल

गौरतलब है कि राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी पहले से भी ज्यादा मजबूत हो गयी हैं राहुल के नेतृत्व में कांग्रेस का जनाधार लगातार बढ़ता जा रहा है। जिसका उदाहरण में हाल ही में हुए चुनावों में देखने को मिला है पार्टी के सभी महत्वपूर्ण निर्णय अब राहुल गांधी द्वारा ही लिए जा रहे हैं। हाल ही के वक्त में राहुल राजनीति में भी परिपक्व हो चुके हैं।

इसके साथ ही राहुल एक अच्छे इंसान के तौर पर भी जाने जाते हैं। वह अक्सर लोगों के बीच जाकर उनकी परेशानियों को सुनते हैं और बिना अपना फायदा और नुक्सान देखे उनकी मदद भी करते हैं।

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

Close