सुप्रीम कोर्ट ने बहुविवाह और हलाला मामले को लेकर मोदी सरकार को लगाई फटकार, कहा…..

शेयर करें

T1 हलाला और बहुविवाह पर मोदी सरकार को कोर्ट ने लगाई फटकार

T2 मोदी सरकार को फिर से सुप्रीम कोर्ट ने लगाई डांट, हलाला और बहुविवाह का है मामला

T3बहुविवाह और हलाला मामले में मोदी सरकार को फिर सुननी पड़ी डांट

मोदी सरकार आने के बाद मुस्लिमों के अनेक नियम कानूनों में फेर बदल किया जा रहा है. एक तरफ सबके बारे में सोचने का कहने वाली मोदी सरकार मानो मुस्लिम समाज की कुरीतियों को मिटाने में लगी है या फिर यूँ कहूँ की उन्हें परेशान करने में लगी है.

हाल ही में कोर्ट ने मोदी सरकार को एक बार फिर फटकार लगाई है, इस बार मामला फिर से मुस्लिमों से जुड़ा हुआ है. ऐसे में साफ़ है की इस बार फिर मुस्लिम समाज की किसी प्रथा का विरोध हो रहा होगा. क्योंकि इन्हें सिर्फ एक ही धर्म में कुरीति नजर आती है.

1.बहुविवाह और हलाला का है मामला

आप जानते है की बहुविवाह और हलाला दोनों ही मुस्लिम समाज में आते हैं, ऐसे में कोर्ट में इन्हें खत्म करने की और इनमे सुधार करने की याचिका लगाई गई थी. इस मामले में कोर्ट पहले से ही सतर्क है उन्होंने संविधान बेंच का गठन भी कर रखा है.

ऐसे मामलों को सुधारने और इनमे संसोधन करने के लिए अन्य नये कानून बनाये जाने वाले हैं पर मोदी सरकार इस मामले की सुनवाई बहुत जल्द चाहती है. आखिर क्यों ? इस बात पर कोर्ट ने मोदी सरकार को फटकार लगा दी है.

2.मुस्लिम धर्म गुरु भी खफा है

मोदी सरकार के इस रवैये से मुस्लिम धर्म गुरु भी खफा हैं, उन्होंने इस मामले में पूरी तरह सोच समझकर निर्णय लेने का संदेश दिया है पर केंद्र सरकार इस पर जल्द फैसला लेने को कह रही है.

यहाँ तक की कुछ दिन पहले एक महिला ने याचिका भी लगाई थी बहुविवाह और हलाला पर कोर्ट सभी मापदंडों को देखते हुए निर्णय लिए क्योंकि यह बहुत ही नाजुक मामला है और इससे देश के मुस्लिमों की आन पर आंच भी आ सकती है.

3.कोर्ट भी रख रहा है मुस्लिमों के नियम कायदों का ख्याल

वैसे लगातार मोदी सरकार किसी धर्म की नीतियों पर सवाल उठा रही है पर ऐसा लगता है की इस बार कोर्ट मोदी सरकार को नीतियाँ सिखाने वाली हैं. क्योंकि लगातार फेरबदल करवाने वाली मोदी सरकार पर कोर्ट खुद बरस पड़ा है.

इससे पहले मोदी सरकार ने मुस्लिम समुदाय में होने वाले तीन तलाक को पूरी तरह से खत्म करवा दिया है. हालाँकि यह निर्णय काफी अच्छा था पर इससे मुस्लिम समुदाय में अभी तक गुस्सा है.

निष्कर्ष: जिस तरह से मोदी सरकार एक धर्म के पीछे लगी हुई है उससे ऐसा ही लगता है की उनका एक ही मकसद है की किसी खास धर्म की रीतियों के साथ खिलवाड़ किया जा सके, ऐसे में मुस्लिम समुदाय के लोगों में मोदी के लिए गुस्सा बढ़ता जा रहा हैं.


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े