बंगाल में हड़कंप, अमित शाह और बीजेपी का कदम रखना भी हुआ मुश्किल…पढ़ें पूरी खबर

शेयर करें

पश्चिम बंगाल में अपनी राजनीतिक जड़ों को जमाने के लिए भारतीय जनता पार्टी राज्य को लगातार अस्थिर करने का प्रयास कर रहीं है.

भाजपा ने बंगाल को हिंदुत्व की प्रयोगशाला बनाने की ठान ली है. आए दिन पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी को हिंदू विरोधी ठहरा कर सोशल मीडिया पर फर्जी वीडियो चलाए जा रहे हैं.

1. बंगाल को किया जा रहा है बदनाम

सोशल मीडिया पर फर्जी खबरें पोस्ट कर यह बताया जा रहा है कि पश्चिम बंगाल में हिंदुओं को पूजा करने से रोका जा रहा है जबकि विश्व का सबसे प्रसिद्ध दुर्गा पूजा और काली पूजा कोलकाता समेत पूरे पश्चिम बंगाल में होता है.

भाजपा भले हीं यह कोशिश कर ले कि बंगाल में नफरत और वैमनस्य को बढ़ावा देकर अपनी राजनीतिक जमीन तैयार कर लें लेकिन बंगाली मानुष कभी भी ऐसी गंदी और घटिया राजनीति का समर्थन नहीं करता है.

2. अमित शाह वापस जाओ

 

आज पश्चिम बंगाल में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की रैली होने वाली है. उनकी इस रैली के विरोध में राजधानी कोलकाता में जगह जगह पोस्टर्स लगाए गए हैं. कोलकाता के सांस्कृतिक संगठनों के लोगों ने अमित शाह गो बैक के पोस्टर लगाए हैं.

यहां के लोगों को इस बात की नाराजगी है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी के लोग कोलकाता की पश्चिम बंगाल की गलत छवि पेश कर रहे हैं और बंगाल को लेकर देश भर में फर्जी खबरें और फर्जी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर रहे हैं.

3. बीजेपी एंटी बंगाल पार्टी

कोलकाता के मेयो रोड में होने वाली बीजेपी की रैली को लेकर कोलकाता के कई छात्र संगठनों ने अमित शाह और भाजपा और बंगाल विरोधी पार्टी बताया है.

उन्होंने यहां पर अमित शाह के विरोध में काले गुब्बारे और झंडे भी लगाए हैं. बंगाल के लोग भाजपा की सांप्रदायिकत राजनीति को इंसानियत के लिए खतरा मानते हैं.

असम में एनआरसी को लेकर अमित शाह बंगाल में राजनीति की जा रही है. यहां मैसेज देने की कोशिश हो रही है कि ममता बनर्जी बंगाल में मुसलमानों और अवैध रुप से रह रहे बांग्लादेशियों को बढावा दे रही है और अगर हमारी सरकार आती है तो हम इन अवैध प्रवासियों को यहां से खदेड़ कर बाहर का रास्ता दिखा देंगें.

निष्कर्ष :

पश्चिम बंगाल बिल्कुल सभ्य और भद्र मानुष का प्रदेश है. यहां भारतीय जनता पार्टी जैसी मानवता विरोधी पार्टी को लोग कभी स्वीकार करेंगें, इसमें संदेह है. फिलहाल यहां ममता बनर्जी और तृणमूल कांग्रेस का परचम लहरा रहा है और लहराता रहेगा.

source : https://www.punjabkesari.in/national/news/posters-of–leave-bengal-bengal–before-amit-shah-rally-853873


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े