शेयर करें

भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ तो जैसे पार्टी नहीं बल्कि देशभक्त और देशद्रोही का सर्टिफिकेट बांटने वाली कोई संस्था बन चुकी है. इन्हें ये प्रमाण पत्र बांटने का लाइसेंस किसने दिया नहीं पता लेकिन आए दिन इनके नेता दूसरे को पाकिस्तानी और देशद्रोही बताते रहते हैं.

हालांकि इनका खुद का चरित्र इतना गंदा है कि पूछिए मत. सेक्स रैकेट चलाने से लेकर हथियार और ड्रग्स तक की सप्लाई में इनके नेता और कार्यकर्ता संलिप्त नजर आते हैं. मध्य प्रदेश के ध्रुव सक्सेना को कैसे भूल सकते हैं जो आईएसआई के लिए जासूसी करता धरा गया है.

1. दिल्ली के विधायक को बताया देशद्रोही

दिल्ली विधानसभा में बहस चल रही थी. सरकार से बिजली, पानी , सड़क, शिक्षा आदि के सवाल पूछे जा रहे थें. संबंधित विभागों के मंत्री अपने हिसाब से जवाब दे रहे थें. भाजपा विधायक ओम प्रकाश शर्मा की बारी आई तो उसने सरकार पर बेवजह आरोप लगाने शुरु कर दिए जिसका जवाब ओखला से आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान दे रहे थें.

आप विधायक के जवाब को सुनकर भाजपा विधायक शर्मा भड़क गया और अमानतुल्लाह खान पर आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग करने लगा, जिसका सत्ता पक्ष के विधायकों ने जम कर विरोध किया और हंगामा किया. शर्मा से शब्दों को वापस लेने की मांग की गई.

2. तुम विधायक नहीं आतंकवादी हो

 

सदन में सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच हंगामे और आरोप प्रत्यारोप की बात कोई नई नहीं है. उसी तरह से दिल्ली विधानसभा में भी चल रहा था लेकिन एक मुस्लिम विधायक का जवाब देना भाजपा को रास नहीं आया और भाजपा विधायक ने उसे आतंकवादी कह डाला.


भाजपा विधायक ने आम आदमी पार्टी के विधायक को कहा कि ओए अमानतुल्लाह खान बात करना है तो आदमियों की तरह बात कर. आतंकवादियों की तरह मत कर. तेरे जैसे हजारों गुंडों को रोड पर घूमते फिरते रोज देखता हूं. चुपचाप बैठ जा यहां पर. बाहर निकल तो तेरे से बात करता हूं मैं.

3. रिकॉर्ड से हटाई गई टिप्पणी

शर्मा के इस आपत्तिजनक बयान के बाद सदन में जबर्दस्त हंगामा मचा. आप विधायकों की मांग पर सदन के रिकॉर्ड से शर्मा के इन वाक्यों को हटाने का निर्देश विधानसभा अध्यक्ष ने दिया. इस मामले पर सदन में बोलते हुए राज्य के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि इस तरह की भाषा असंसदीय के साथ साथ अमर्यादित भी है.

निष्कर्ष :

भाजपा के विधायक का इस तरह का बयान कुछ और नहीं उनकी परवरिश को बता रहा था. यह उनके परिवार से मिले संस्कार का प्रतीक है.

 

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें