शेयर करें

इस देश में राजनीती का स्तर कुछ इस कदर नीचे की ओर गिरा है कि कभी कभी तो यहाँ का जो भी बुद्धिजीवी वर्ग है उसको भी ये बात महसूस होती है कि यहाँ पर जो कुछ भी चल रहा है वो भारत की जो असल आत्मा है उसको धीरे धीरे करके स्लो पाइजन की तरह ख़त्म कर रहा है |

यहाँ की केंद्र सरकार काम करने के नाम पर सड़कों के नाम बदलने में लगी हुई है, स्मारकों को तक हिन्दू-मुस्लिम बनाने में लगी हुई है और जो देश के असल मुद्दे होने चाहिए उनसे वो कोसों दूर है जो देश के लिए किसी दुर्भाग्य से कम नहीं लगता है |

अगर आप बी वास्तव में इस सरकार के राम मंदिर,लव जिहाद आदि जैसे दो दो कौडी के गैरजरूरी मुद्दों से ऊब चुके हो तो आपके लिए ये बढ़िया खबर है जो दिल्ली सरकार की तरफ से आरही है और इस खबर को सुनके सभी केजरीवाल की तारीफ करने में लगे हुए हैं |

क्या किया केजरीवाल ने ऐसा

दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने एक सराहनीय फैसला लिया है जिसके तहत दिल्ली के अंदर कोई भी व्यक्ति अगर सडक दुर्घटना, आग और एसिड हमले का शिकार होता है तो ऐसे लोगों का इलाज दिल्ली के निजी अस्पतालों में किया जाएगा और इस सबका जो भी कुछ खर्चा होगा वो सब का सब दिल्ली सरकार उठाएगी |

हालाँकि पहली बार में इस फैसले पर यकीन नहीं होता है क्योकि ये किसी स्वप्न जैसा मालूम होता है लेकिन यही सच है कि अगर किसी भी व्यक्ति का इन में से किसी भी चीज में कुछ होता है तो उनका इलाज निजी अस्पतालों में होगा और खर्चा दिल्ली सरकार उठाएगी |

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा ये

सत्येन्द्र जैन जो दिल्ली सरकार में स्वास्थ्य मंत्री हैं उनका इस बारे में कहना है कि सर्वे के अनुसार दिल्ली की सड़कों पर सालाना औसतन 8 हजार के लगभग सडक हादसे होते हैं और इनकी जद में 15 से 20 हजार लोग आते हैं जिनमे से सालाना लगभग लगभग 16 सौर लोगों की मौत हो जाती है | इन्ही मौतों को ध्यान में रखते हुए दिल्ली सरकार ने ये बड़ा फैसला लिया है |

दिल्ली सरकार का कहना है कि लोग दुर्घटना के बाद पीड़ित को पास के निजी अस्पताल की जगह दूओर सरकारी अस्पताल में ले जाते हैं और इसकी वजह से उन्हें समय से इलाज नहीं मिल पाता है | लेकिन ऐसी कंडीशन में दिल्ली सरकार कितना खर्चा उठाएगी इस बात की पुष्टि अभी नहीं हुई है |

इस योजना को अभी केजरीवाल की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में मंजूरी मिल गयी है | इस फैसले पर बस दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल की मुहर लगना और बांकी है |

इस फैसले पर ये बोले केजरीवाल

जब इस फैसले पर अरविन्द केजरीवाल से बात की गयी तो उनका कहना था कि जिन्दगी अनमोल है और हर एक जिन्दगी का अपना मोल है जो हमारे लिए महत्वपूर्ण है | अगर पीड़ितों को समय से उपचार मिले तो उनकी जिन्दगी बचायी जा सकती है | अगर केजरीवाल के इस फैसले को उपराज्यपाल की ,मंजूरी मिल जाती है तो ये एक बहुत ही जबरदस्त फैसला माना जायेगा |

देखिये वीडियो:-

Source-https://www.ichowk.in/society/road-accident-victims-would-be-treated-in-private-hospital-delhi-government-orders/story/1/9125.html

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें